Morari Bapu Suvichar Images ( मोरारी बापू सुविचार इमेजेज  ) || Morari Bapu Quotes

Morari Bapu Suvichar Images ( मोरारी बापू सुविचार इमेजेज ) || Morari Bapu Quotes

Morari Bapu Suvichar Images in Hindi and English With Images ( मोरारी बापू सुविचार इमेजेज ). Morari Bapu Quotes and Thoughts with Photos.


जैसे अमरूद कोई रसमात्र नहीं है, गन्ना केवल नदी नहीं है, हनुमान जी केवल बन्दर नहीं है, ऐसे मेरे भाई बहन – अन्यदान केवल दान नहीं है, यह ब्रम्ह वितरण की प्रवति है।

jaise amarood koee rasamaatr nahin hai, ganna keval nadee nahin hai, hanumaan jee keval bandar nahin hai, aise mere bhaee bahan – anyadaan keval daan nahin hai, yah bramh vitaran kee pravati hai.


किसी के यहाँ मेहमान – मन देख कर हुआ जाता है, माकन देख कर नहीं।

kisee ke yahaan mehamaan – man dekh kar hua jaata hai, maakan dekh kar nahin.


इंसान की प्रवर्ति -परिणाम प्रवृति है। एक व्यक्ति को रोटी खिला दो तो उसके चेहरे की रौनक बदलेगी, एक परिणाम, वो तृप्त हुआ या नहीं हम तृप्त ज़रूर हो जायेंगे।

insaan kee pravarti -parinaam pravrti hai. ek vyakti ko rotee khila do to usake chehare kee raunak badalegee, ek parinaam, vo trpt hua ya nahin ham trpt zaroor ho jaayenge.


प्रत्येक व्यक्ति अगर पांच – पांच व्यक्ति की मदद कर दे, तो ये बहुत बड़ा काम हो जाएगा। पर हम इतनी परतो से देखते है की हमें मदद के लिए कोई नहीं दिखता।

pratyek vyakti agar paanch – paanch vyakti kee madad kar de, to ye bahut bada kaam ho jaega. par ham itanee parato se dekhate hai kee hamen madad ke lie koee nahin dikhata.


लोग जब साधना को जीवन से बिलग करते है, जो मुझे बड़ा आश्चर्य होता है, साधना कोई बिलग वास्तु थोड़ी न है की एक झांटे करलो और बात ख़तम, जीवन ही साधना है, इस पक्ष में मैं हूँ।

log jab saadhana ko jeevan se bilag karate hai, jo mujhe bada aashchary hota hai, saadhana koee bilag vaastu thodee na hai kee ek jhaante karalo aur baat khatam, jeevan hee saadhana hai, is paksh mein main hoon.


अक्षय पत्र की सद्प्रवीति मानव जात की पूजा हैं। सेवा के माध्यम से ये एक पूजा है।

akshay patr kee sadpraveeti maanav jaat kee pooja hain. seva ke maadhyam se ye ek pooja hai.


बुध पुरुष निदान करता है, बुद्धू निंदा करता है।

budh purush nidaan karata hai, buddhoo ninda karata hai.


बहुत दूर तक जाना परता है, नज़दीक वालो को पहचानने के लिए।  मेरी राये यह है  की दुसरो को जानने की कसरत ही मत करो, जितना दुसरो को जानो गए राग देश बटेगा।

bahut door tak jaana parata hai, nazadeek vaalo ko pahachaanane ke lie. meree raaye yah hai kee dusaro ko jaanane kee kasarat hee mat karo, jitana dusaro ko jaano gae raag desh batega.


अति रौशनी आँखों को अँधा कर सकती है, अति जानकार होना ठीक नहीं है, थोड़ा अनपढ़ भी रहिये।

ati raushanee aankhon ko andha kar sakatee hai, ati jaanakaar hona theek nahin hai, thoda anapadh bhee rahiye.


गंगा में अगर कोई मैले गंदे कपड़े पहन कर नहाने जाये, तो गन्दा पवित्र हो जाता है, गंगा अपवित्र नहीं होती है। 

ganga mein agar koee maile gande kapade pahan kar nahaane jaaye, to ganda pavitr ho jaata hai, ganga apavitr nahin hotee hai.


मन सुखी हो सकता है या दुखी हो सकता है, परन्तु मन प्रसन्न कभी नहीं हो सकता।

man sukhee ho sakata hai ya dukhee ho sakata hai, parantu man prasann kabhee nahin ho sakata.


एक गुरु के बिना प्रसन्न होना असंभव है। अकारण कुछ किये बिना जब आप अचानक  प्रसन्न हो जायो तब याद करना उस गुरु को जिसने तुम्हारा स्मरण किया है।

ek guru ke bina prasann hona asambhav hai. akaaran kuchh kiye bina jab aap achaanak prasann ho jaayo tab yaad karana us guru ko jisane tumhaara smaran kiya hai.


चैतेनिक प्रसन्नता केवल गुरु प्रसार है, और कोई मार्ग नहीं।

chaitenik prasannata keval guru prasaar hai, aur koee maarg nahin.


प्रसन्न रहना है तो कभी किसी से इस्पर्धा मत करो, अपने आप अपनी गति करो प्रसन्न स्वयं हो जाओगे।

prasann rahana hai to kabhee kisee se ispardha mat karo, apane aap apanee gati karo prasann svayan ho jaoge.


प्रसन्न रहना है तो वर्तमान में जेने की कोशिश करो, अभी आनंद में जिओ, वर्तमान में जिओ वो आदमी प्रसन्न रह सकता है।

prasann rahana hai to vartamaan mein jene kee koshish karo, abhee aanand mein jio, vartamaan mein jio vo aadamee prasann rah sakata hai.


प्रसन्न रहना है तो जितना हो सके हरी नाम का आश्रय करो।

prasann rahana hai to jitana ho sake haree naam ka aashray karo.


सुबह का समय प्रकृति का स्वाद लेने का समय है, कभी जागते ही क्रोध मत करे चाहे कारण हो या नहीं।

subah ka samay prakrti ka svaad lene ka samay hai, kabhee jaagate hee krodh mat kare chaahe kaaran ho ya nahin.


कुछ भी नहीं करना, हरी भजन है, कुछ भी करोगे तो बंधन आएगा।

kuchh bhee nahin karana, haree bhajan hai, kuchh bhee karoge to bandhan aaega.


जब भोजन करो तब कभी क्रोध मत करना, तुम्हारी थाली में जिसने भी परोसा है अन्य नहीं परोसा है उसने ब्रम्ह परोसा है।

jab bhojan karo tab kabhee krodh mat karana, tumhaaree thaalee mein jisane bhee parosa hai any nahin parosa hai usane bramh parosa hai.


घर से कही बहार जायो तो क्रोध करके बहार मत जाना मुस्कराकर जाना। और जब वापस घर आयो तो क्रोध भरे चित से मत आयो।

ghar se kahee bahaar jaayo to krodh karake bahaar mat jaana muskaraakar jaana. aur jab vaapas ghar aayo to krodh bhare chit se mat aayo.


जब आखिर में कुछ भी नहीं करना है और अब  सो ही जाना है तब क्रोध करके मत सो। सुर बन कर सो असुर बन कर नहीं , करण बन कर सो कुंभकरण बन कर नहीं।

jab aakhir mein kuchh bhee nahin karana hai aur ab so hee jaana hai tab krodh karake mat so. sur ban kar so asur ban kar nahin , karan ban kar so kumbhakaran ban kar nahin.


अहिंसा ही परम धर्म है।

ahinsa hee param dharm hai.


इर्षा जीव से होती है और निंदा जीभ से होती है।

irsha jeev se hotee hai aur ninda jeebh se hotee hai.


निंदा वह ग्यारवा रस है जिससे कोई क्षेत्र मुक्त नहीं होता चाहे वह धर्म क्षेत्र क्यों न हो।

ninda vah gyaarava ras hai jisase koee kshetr mukt nahin hota chaahe vah dharm kshetr kyon na ho.


रात्रि में जो निद्रा से मुक्त हो जाये और दिन में जो निंदा से मुक्त हो। ऐसे बुध पुरुष के पैर पकड़ने में देर मत करना।

raatri mein jo nidra se mukt ho jaaye aur din mein jo ninda se mukt ho. aise budh purush ke pair pakadane mein der mat karana.


आप के मन में जो अचानक पहला विचार आये, उसको करने में विलम्भ मत करना क्योकि वह विचार तुम्हारा नहीं किसी और ने तुम्हे दिया है।

aap ke man mein jo achaanak pahala vichaar aaye, usako karane mein vilambh mat karana kyoki vah vichaar tumhaara nahin kisee aur ne tumhe diya hai.


कोई भी कवी जब एक कविता लिखता है तो पहली पंक्ति परमात्मा की होती है बाकी सब तुकबंदी होती है।

koee bhee kavee jab ek kavita likhata hai to pahalee pankti paramaatma kee hotee hai baakee sab tukabandee hotee hai.


कोई दिन असाधारण न बनो असाधारण बीमारी है। साधारण स्वास्थ है।

koee din asaadhaaran na bano asaadhaaran beemaaree hai. saadhaaran svaasth hai.


साधगुरु साधारण होता है, साधारण में ही सहजता है।

saadhaguru saadhaaran hota hai , saadhaaran mein hee sahajata hai.


बच्चे जितने ही साधारण होते है उतना ही प्यार आता है, बड़े जितने आसाधारण होते है प्रणाम करके चलना पड़ता है।

bachche jitane hee saadhaaran hote hai utana hee pyaar aata hai , bade jitane aasaadhaaran hote hai pranaam karake chalana padata hai.


जिसको परमत्मा से प्रेम व महोबत है, उसके लिए मुक्ति कुछ नहीं।

jisako paramatma se prem va mahobat hai, usake lie mukti kuchh nahin.


आप रात्रि के पेहरि है मैं  दिन का पेहरि हु। आओ बाँट ले और 24 घंटे लोगो को जगाये रखे।

aap raatri ke pehari hai main din ka pehari hu. aao baant le aur 24 ghante logo ko jagaaye rakhe.


जिस पर पारात्मा की कृपा आने लगती है, भगवान उस पर शनै शनै धन कम कर देता है।

jis par paaraatma kee krpa aane lagatee hai, bhagavaan us par shanai shanai dhan kam kar deta hai.


परात्मा को ध्यान में रख कर कोई कथा गाई जाए तब कथानानन्द और श्रवणानंद दोनों प्राप्त होता है।

paraatma ko dhyaan mein rakh kar koee katha gaee jae tab kathaanaanand aur shravanaanand donon praapt hota hai.


मन को प्रसन्नता की इच्छा होती है, बुद्धि विवेक में श्रद्धा रखती है, चित एकाग्रता में रूचि रखता है और अहंकार मोच में रूचि रखता है। और आत्मा की भूख है आनंद।

man ko prasannata kee ichchha hotee hai, buddhi vivek mein shraddha rakhatee hai, chit ekaagrata mein roochi rakhata hai aur ahankaar moch mein roochi rakhata hai. aur aatma kee bhookh hai aanand.


एक शरण भी कर्म के बिना नहीं जाता।

ek sharan bhee karm ke bina nahin jaata.


परात्मा की इच्छा से ही कर्म होता है, और परात्मा की इच्छा से ही फल मिलता है, इससे ख़ुशी से स्वीकार करो।

paraatma kee ichchha se hee karm hota hai, aur paraatma kee ichchha se hee phal milata hai, isase khushee se sveekaar karo.


वाणी की शुद्धि बहुत आवश्यक है।  सत्य भोलो तो भी प्रिय भोलो, कटु वचन के उसे कठोर मत बनाओ।

vaanee kee shuddhi bahut aavashyak hai. saty bholo to bhee priy bholo, katu vachan ke use kathor mat banao.


तुम किसी पर करुणा करू तो ये भी सुन्दर होनी चाहिए आसुंदर नहीं।

tum kisee par karuna karoo to ye bhee sundar honee chaahie aasundar nahin.


वाद करो विवाद न रहो। दुर्वाद मत करो, किसका का अपवाद मत करो।  संवाद करो।

vaad karo vivaad na raho. durvaad mat karo, kisaka ka apavaad mat karo. sanvaad karo.


जो कार्य तुम्हे ईश्वर द्वारा दिया गया है उसे कर, पर परात्मा का स्मरण मत शूरना।

jo kaary tumhe eeshvar dvaara diya gaya hai use kar, par paraatma ka smaran mat shoorana.


तेरे चाहने वाले काम नहीं होंगे तेरी महफिल में हम नहीं होंगे।

tere chaahane vaale kaam nahin honge teree mahaphil mein ham nahin honge.


कभी साधु संत की निन्दा मत करना, ये उनका कर्तव्य है कि ये अपना वेश कैसे करे, परन्तु आपका ये नहीं कि आप उनकी आलोचना करे।

kabhee saadhu sant kee ninda mat karana, ye unaka kartavy hai ki ye apana vesh kaise kare, parantu aapaka ye nahin ki aap unakee aalochana kare.


एक विद्यावान के मुख से कथा आपको समझ आएगी लेकिन आपके हृदय से टकराकर चली जाएगी, एक साधु के मुख से कथा आपके मन और हृदय दिनों में समा जाएगी।

ek vidyaavaan ke mukh se katha aapako samajh aaegee lekin aapake hrday se takaraakar chalee jaegee, ek saadhu ke mukh se katha aapake man aur hrday dinon mein sama jaegee.


गुरु से उपर कोई तत्व्य नहीं। और मौन गुरु वायु रूपी होता है।

guru se upar koee tatvy nahin. aur maun guru vaayu roopee hota hai.


गुरु की कृपा से ईश्वर के रहस्य जाने जाते है परन्तु गुरु के रहस्य जाना बहुत मुश्किल है।

guru kee krpa se eeshvar ke rahasy jaane jaate hai parantu guru ke rahasy jaana bahut mushkil hai.


संसार का जो सार समझा दे वो गुरु है, नकी जो इस संसार से मुक्त कराए।

sansaar ka jo saar samajha de vo guru hai, nakee jo is sansaar se mukt karae.


भजन ही भक्ति के भाव महल में भोग करने का तरीका है।

bhajan hee bhakti ke bhaav mahal mein bhog karane ka tareeka hai.


मानुष के जीवित होने से बड़ा चमत्कार कहा दिखेगा।

maanush ke jeevit hone se bada chamatkaar kaha dikhega.


कर्म ही भोग की स्थापना है, कर्म से मुक्ति कभी नहीं मिल सकती।

karm hee bhog kee sthaapana hai, karm se mukti kabhee nahin mil sakatee.


हार्दिक सत्य बौद्धिक सत्य से ज़्यादा महत्त्व है।

haardik saty bauddhik saty se zyaada mahattv hai.


Leave a Reply